Home Breaking News विकलांग बहन को मोहरा बनाकर बलात्कार के आरोप में फसाया

विकलांग बहन को मोहरा बनाकर बलात्कार के आरोप में फसाया

184 views
0

विदर्भ वतन न्यूज़ पोर्टल, नागपूर प्रतिनिधि : पत्रकार परिषद में सुनीता खांडेकर ने लगाया आरोप

पुरानी रंजिस का मामला

सालेकसा : कहावत है,”दुश्मन देखे डाव और मक्खी देखे घांव”। ऐसी तर्ज पर साकरीटोला (सातगांव) में एक घटना घटी। पीड़ित की पत्नी सुनीता पुरुषोत्तम खांडेकर ने हाल ही में सालेकसा स्थित साक्षरता सार्वजनिक वाचनालय के सभागृह में आयोजित पत्रकार परिषद के दरमियान पत्रकारों को बताया कि उसके पति पुरुषोत्तम को पुरानी रंजिस के चलते गांव के ही युवक कृष्णा फाफनवाड़े ने अपनी विकलांग बहन कुमारी भारती फाफनवाड़े को मोहरा बनाकर भारती के साथ बलात्कार करने का झूठा आरोप लगाकर फंसा दिया। जो कि पूर्ण तरह झूठा और बेबुनियाद है।
सुनीता खांडेकर ने आगे बताया कि कुछ दिनों पूर्व कृष्णा फाफनवाड़े पर 376 का दफा कायम कर पुलिस ने हवालात में बंद कर दिया था। इस मामले में उसके पति पुरुषोत्तम खांडेकर ने गवाही दी थी। इसी के रंजिस की ताक में कृष्णा फाफनवाड़े योग्य समय का इंतजार कर रहा था कि दिनांक 14 अक्टूम्बर 2020 बुधवार को पति पुरुषोत्तम खांडेकर कृष्णा फाफनवाड़े के घर के सामने से गुजर रहा था , यह देख कृष्णा फाफनवाड़े ने शोर मचाया और अपनी विकलांग बहन कुमारी भारती के साथ छेड़छाड़ कर बलात्कार करने का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज कराने साकरीटोला पोलिस चौकी लेकर गया। इस दरमियान ग्राम के कुछ प्रतिष्ठित व्यक्तियों ने कृष्णा की समझाइश करने का प्रयत्न किया। परंतु वह नहीं माना। मामले का संज्ञान लेते हुए साकरीटोला बीट जमादार बिसेन ने तत्काल सालेकसा पुलिस स्टेशन में दोनों पक्षों को पुलिस निरीक्षक के सामने पेश करने का हवाला देते हुए पति पुरुषोत्तम खांडेकर को लेकर गया। जहां उनके ऊपर 376 का झूठा आरोप लगाकर हवालात में बंद करते हुए भंडारा जेल रवाना कर दिया। इस वक्त केस वापस लेने के तौर पर कृष्णा फाफनवाड़े ने हमसे 3 लाख रुपए की मांग की थी। हमने रुपए देने से मनाई की।
आज मेरा पति जेल की हवा खा रहा है और मैं न्याय के लिए दर-दर भटक रही हूं। परंतु मुझे न्याय नहीं मिल रहा है। ऐसा कहते हुए सुनीता खांडेकर ने शासन से गुहार लगाई कि उसका पति बेकसूर है और पुरानी रंजिस की वजह से उसके पति को बलात्कार के झूठे और बेबुनियाद आरोप लगाकर फसाया गया है।