Home Breaking News मैं ना समझ राजनीतिक कार्यकर्ता

मैं ना समझ राजनीतिक कार्यकर्ता

44 views
0
विदर्भ वतन न्यूज पोर्टल नागपूर – मेरी भी पहचान हो,मेरे से भी कोई काम हो यही सोच राजनीतिक पार्टी से जुड़ता हु,
मैं ना समझ राजनीतिक कार्यकर्ता….

राजनीति  समाजसेवाका एक पहलू है,लेकिन यहाँ कोयले मे हीरे जैसे चंद सच्चे समाजसेवक मिलते है,उसे तरासे बगैर राजनीतिक पार्टी से जुड़ता हु,
मैं ना समझ राजनीतिक कार्यकर्ता…

कट्टर हिंदू,कट्टर मुस्लिम,कट्टर बहुजन बनने की चाह मे न जाने कितने सच्चे दोस्त खो देता हु,फिरभी राजनीतिक पार्टी से जुड़ता हु,मैं ना समझ राजनीतिक कार्यकर्ता
नेता के नजर मे आने आंदोलन मे पुलिस के डंडे छाती चौडीकर खाता हु,गिरता हु अपनों की नजर मे फिरभी खिल खिल इतराता हु,
बगैर सोचे समझे किसी राजनीतिक पार्टी से जुड़ता हु,
मैं ना समझ राजनीतिक कार्यकर्ता

सोचता हु भविष्य मे चाचा नेहरू जी राजीव गांधी जी,अटल बिहारी जी,बालासाहेब जैसे बनूँगा बगैर समझे बगैर जाने बगैर उनके तप को पहचाने,राजनीतिक पार्टी से जुड़ता हु,
मैं ना समझ राजनीतिक कार्यकर्ता

अपने माता पिता के चरण वर्षो नही छूता हु,लेकिन अपनी वफ़ादारी दिखाने नेता को अपना पालनहार मानलेता हु,
उसके चरण पकड़ किसी राजनीतिक पार्टी से जुड़ता हु,
मैं ना समझ राजनीतिक कार्यकर्ता
पढ़ने की उमर मे उज्वल भविष्य बनाने की उमर मे घंटो समय बर्बाद कर दरी,खुर्चि  बिछाता हु उठाता हु अपने पार्टी का झंडा लेकर खूब इतराता हु,खुदको भावी नगरसेवक समझ
राजनीतिक पार्टी से जुड़ता हु
मैं ना समझ राजनीतिक कार्यकर्ता

मैं बिकता नही इसके विपरीत जनता के लिए अपने पैसों से कार्यक्रम कराता हु खुदकी घर की हालत नाजुक कर, राजनीतिक पार्टी से जुड़ता हु,
मैं ना समझ राजनीतिक कार्यकर्ता